Home छत्तीसगढ़ ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में लगातार इजाफा,3 महीने में इतने मामलों में एफआईआर दर्ज…

ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में लगातार इजाफा,3 महीने में इतने मामलों में एफआईआर दर्ज…

by Wev Desk
जिले में ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। इस वर्ष पिछले तीन महीनों में अलग-अलग थानों में करीब 15 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। दो दिन पहले केबीसी में 25 लाख की लॉटरी निकलने के नाम पर ग्राम किकिरमेट निवासी किसान मंगलूराम निषाद के साथ 5 लाख रुपए की ठगी हुई। इससे पहले नेवई, वैशाली नगर और मोहन नगर थाना क्षेत्र में बैंक अधिकारी, इंश्योरेंस के नाम पर ठगी के प्रकरण में सामने आए हैं। हालांकि सभी प्रकरणों में पुलिस ने अपराध दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है। खास बात यह है ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों की नजर ग्रामीण क्षेत्रों के किसानों पर है। एप डाउनलोड करा रहे ,थाने पहुंच रही शिकायतें केस-1: केबीसी के नाम पर उपहार की बात कहकर ठगी जामगांव-आर थाना अंतर्गत एक किसान के पास केबीसी के नाम पर पहला कॉल 23 जनवरी को आया। बैंक अकाउंट समेत फोन-पे माध्यम से बताई राशि का भुगतान करते रहे। एप्लीकेशन फीस के नाम पर 30 हजार रुपए ठग लिए। फिर मामला थाने पहुंचा। केस-2: रेलवे कर्मचारी हुआ शिकार, थाने में शिकायत भिलाई-3 निवासी रेलवेकर्मी अमर सेन को मोबाइल पर 5 मिनट में इंस्टेंट लोन का झांसा दिया गया। इसके बाद उसने मैसेज में लिखे मोबाइल नंबर पर संपर्क किया। 5 हजार रुपए का लोन दिया। इसके बाद ठग 20 हजार रुपए की मांग करने लगे। किसान ने 4 माह पहले पहली बार खरीदा स्मार्ट फोन किसान मंगलूराम ने पुलिस को बताया कि दिसंबर माह में ही पहली बार उसने स्मार्ट फोन खरीदी था। ज्यादा फंक्शन होने की वजह उसका इस्तेमाल उसकी 18 वर्षीय बेटी हिरौंदी बाई करती थी। वहीं दिनभर फोन का इस्तेमाल करती थी। पहली दफा आरोपियों से उसकी ही बात हुई थी। मामले में जांच जारी है।

जिले में ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। इस वर्ष पिछले तीन महीनों में अलग-अलग थानों में करीब 15 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। दो दिन पहले केबीसी में 25 लाख की लॉटरी निकलने के नाम पर ग्राम किकिरमेट निवासी किसान मंगलूराम निषाद के साथ 5 लाख रुपए की ठगी हुई।

इससे पहले नेवई, वैशाली नगर और मोहन नगर थाना क्षेत्र में बैंक अधिकारी, इंश्योरेंस के नाम पर ठगी के प्रकरण में सामने आए हैं। हालांकि सभी प्रकरणों में पुलिस ने अपराध दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है। खास बात यह है ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों की नजर ग्रामीण क्षेत्रों के किसानों पर है।

एप डाउनलोड करा रहे ,थाने पहुंच रही शिकायतेंकेस-1: केबीसी के नाम पर उपहार की बात कहकर ठगी

जामगांव-आर थाना अंतर्गत एक किसान के पास केबीसी के नाम पर पहला कॉल 23 जनवरी को आया। बैंक अकाउंट समेत फोन-पे माध्यम से बताई राशि का भुगतान करते रहे। एप्लीकेशन फीस के नाम पर 30 हजार रुपए ठग लिए। फिर मामला थाने पहुंचा।

केस-2: रेलवे कर्मचारी हुआ शिकार, थाने में शिकायत
भिलाई-3 निवासी रेलवेकर्मी अमर सेन को मोबाइल पर 5 मिनट में इंस्टेंट लोन का झांसा दिया गया। इसके बाद उसने मैसेज में लिखे मोबाइल नंबर पर संपर्क किया। 5 हजार रुपए का लोन दिया। इसके बाद ठग 20 हजार रुपए की मांग करने लगे।

किसान ने 4 माह पहले पहली बार खरीदा स्मार्ट फोन
किसान मंगलूराम ने पुलिस को बताया कि दिसंबर माह में ही पहली बार उसने स्मार्ट फोन खरीदी था। ज्यादा फंक्शन होने की वजह उसका इस्तेमाल उसकी 18 वर्षीय बेटी हिरौंदी बाई करती थी। वहीं दिनभर फोन का इस्तेमाल करती थी। पहली दफा आरोपियों से उसकी ही बात हुई थी। मामले में जांच जारी है।

You may also like

Leave a Comment