Home Featured जानें क्या है रविवार और तुलसी का नाता ?

जानें क्या है रविवार और तुलसी का नाता ?

by Admin

News Desk :- तुलसी के पौधे भारतीय मंदिरों में और उसके आसपास होना भी एक आम बात है क्योंकि इस पौधे की पत्तियों को विशेष रूप से भगवान को अर्पित किया जाता है। पर क्या आप जानते हैं ? कि रविवार को भूल कर भी तुलसी के पत्तों को नहीं तोड़ना चाहिए, आइए जानते हैं इस खबर में तुलसी से जुड़ी कुछ खास बातों को |

हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बहुत ज्यादा शुभ माना जाता है और ऐसा माना जाता है कि जिस घर में यह पौधा होता है वहां सुख समृद्धि सदैव बनी रहती है। तुलसी की पत्तियां जितनी पवित्र होती हैं उतना ही इस पौधे को घर में लगाने के नियमों का पालन करना भी जरूरी माना जाता है।

जहां तुलसी की पत्तियों को पवित्र मानते हुए इनकी पूजा का विधान है, वहीं इस पौधे की पत्तियों के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी माना जाता है। आइए जानते हैं इनके बारे में ……

रविवार समेत इन विशेष दिनों में तुलसी की पत्तियां न तोड़ें
ऐसा माना जाता है कि तुलसी की पत्तियों को कुछ विशेष दिनों में नहीं तोडना चाहिए जैसे एकादशी, रविवार के अलावा सूर्य और चंद्र ग्रहण के दिन भूलकर भी तुलसी की पत्तियां न तोड़ें और इन दिनों में तुलसी के पौधे में जल भी न दें।

कभी भी तुलसी का अपमान न करें
यदि कोई अपने घर में तुलसी का पौधा लगाता है, तो उसे नियमित रूप से उसकी पूजा करनी चाहिए और नियमित आरती करनी चाहिए। कभी भी इस पौधे और इसकी पत्तियों की उपेक्षा न करें। ऐसा माना जाता है कि इन पत्तियों का अपमान करना भगवान विष्णु का अपमान करने के सामान होता है।

अशुद्ध शरीर और मन से तुलसी की पत्तियां न तोड़ें

कभी भी अशुद्ध शरीर और मन से तुलसी की पत्तियां न तोड़ें। यदि आप मांस या मदिरा का सेवन करते हैं तो उसके बाद कभी भी तुलसी की पत्तियों का स्पर्श न करें। ऐसा करने से धन की हानि होती है और घर में दरिद्रता आती है।

रात के समय तुलसी की पत्तियां न तोड़ें
अगर आपके घर में तुलसी का पौधा है तो भूलकर भी आपको इसका स्पर्श सूरज ढलने के बाद (संध्या काल में न करें ये काम) और रात के समय नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से माता लक्ष्मी रूठ जाती हैं और आपके घर में धन का व्यय होने लगता है।

तुलसी की पत्तियों को दांतों से न चबाएं
तुलसी की पत्तियों को कभी भी दांतों से नहीं चबाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इसकी पत्तियों को चबाने की बजाय निगलना चाहिए। इन पत्तियों को दांतों से चबाने से दांतों को नुकसान पहुंच सकता है। ये पत्तियां आपके मसूड़ों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

तुलसी की पत्तियां भगवान शिव को न चढ़ाएं

कभी भी तुलसी की पत्तियां भगवान शिव को नहीं चढ़ानी चाहिए क्योंकि ऐसा करने से पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता है। दरअसल इससे जुड़ी एक पौराणिक कथा है जिसमें वृंदा यानि तुलसी के पति जालंधर को भगवान शिव ने मारा था और इसी वजह से शिव जी पर तुलसी दल अर्पित नहीं किया जाता है।

You may also like

Leave a Comment