fbpx
  • Wed. Sep 27th, 2023

    Unique 24 News

    खबर जो आप जानना चाहते हैं

    Nuh Violence: नूंह से शुरू हुई हिंसा का कहां-कहां हुआ असर…

    ByWev Desk

    Aug 1, 2023 #India, #news

    गुरुग्राम. Nuh Violence: हरियाणा के नूंह से शुरू हुए बवाल का असर अब हरियाणा के चार अलग-अलग जिलों में फैल गया है. मेवात के नूंह में जहां अर्ध सैनिकों की तैनाती हुई है, वहीं साथ लगते जिलों में पुलिस की सख्ती है. मंगलवार को तनाव शांत करने के लिए कई जगहों पर भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है.

    सोमवार को हरियाणा के नूंह इलाके में एक धार्मिक शोभा यात्रा के दौरान दो समुदाय आमने-सामने आ गए और देखते ही देखते इस धार्मिक जुलूस के दौरान भड़की हिंसा से राज्य का माहौल गरमा गया. नूंह में हुए इस बवाल में गुरुग्राम में तैनात दो होमगार्ड की मौत हो गई. दोनों मृतक नूंह पुलिस की मदद के लिए गुरुग्राम से गए थे. नूंह से शुरू हुई हिंसा की यह आग आसपास के जिलों में भी फैल गई और कई जिलों में अभी धारा 144 लागू कर दी गई है. बिगड़ते हालात को देखते हुए हरियाणा सरकार ने केंद्र से मदद मांगी तो केंद्र की ओर से भी अतिरिक्त सुरक्षा बल नूंह भेजे गए हैं. इसके साथ-साथ ही मंगलवार यानी आज कई जिलों में स्कूल-कॉलेज भी बंद कर दिए गए हैं.

    क्यों कहां और कैसे शुरू हुई हिंसा?
    दरअसल, हरियाणा गुरुग्राम से नूंह के बीच सोमवार को बृज मंडल जलाभिषेक यात्रा निकाली गई. जिसकी अगवाई विश्व हिंदू परिषद और बजरंगदल ने की. इस धार्मिक यात्रा में हजारों लोगों की भीड़ शामिल हुई. हरियाणा के कई जिलों से लोग इसमें शामिल होने के लिए पहुंचे थे. गुरुग्राम से शुरू हुई इस यात्रा को भारतीय जनता पार्टी की गुरुग्राम की जिला अध्यक्ष गार्गी कक्कड़ ने गुरुग्राम के सिविल लाइंस इलाके से हरी झंडी दिखाई थी. जुलूस के साथ एहतियात पुलिस की एक टुकड़ी भी तैनात गई थी.

    ऐसे हुई हिंसा की शुरुआत
    इस पूरे मामले में विवाद तब शुरू हुआ जब गौरक्षा दल के सदस्य मोनू मानेसर की एंट्री हुई. मोनू मानेसर ने सोशल मीडिया पर दावा किया कि वो इस यात्रा में शामिल होगा. मोनू मानेसर पर नासिर-जुनैद की मौत के मामले में हत्या का मामला दर्ज है और वो अभी फरार चल रहा है. मोनू मानेसर के दावे के बाद नूंह में दूसरे समुदाय के लोगों ने इस यात्रा का विरोध किया और उन्होंने भी सोशल मीडिया के जरिए ही चेतावनी भी दी की मोनू मानेसर अगर मेवात के नूंह में आया तो वापस नहीं जाने देंगे. इन सबके बीच मोनू मानेसर ने सोशल मीडिया के जरिए दावा किया कि “वादा किया है तो आना पड़ेगा, स्वागत नहीं करोगे”….और इस पोस्ट के बाद नूंह में मुस्लिम समुदाय के लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर जा पहुंचा और अफवाह फ़ैल गई कि इस शोभा यात्रा में मोनू मानेसर शामिल है. इस अफवाह के बाद दूसरे गुट के लोगों ने धार्मिक यात्रा में शामिल लोगों पर पत्थरबाजी करना शुरू कर दिया. इसी पत्थरबाजी ने बाद में दोनों गुटों में टकराव का रूप ले लिया और हालात इतने बिगड़ गए.

    Raipur Airport से Durg तक शुरू हुई City Bus service

    कितने लोगों की मौत, कितने घायल?
    मेवात की नूंह पुलिस के SP छुट्टी पर थे और जिले की सुरक्षा की जिमेदारी पलवल के एसपी के कंधो पर थी. इस बीच जब हिंसा भड़की तो हालत बेकाबू होते चले गए और नूंह पुलिस की मदद के लिए दूसरे जिलों से फोर्स को भेजा गया. सबसे पहले गुरुग्राम पुलिस के जवान और अधिकारी नूंह पहुंचे तो उनको भी निशाना बनाया गया. सबसे पहले नूंह पहुंचे गुरुग्राम के मानेसर और खेड़की दौला के SHO. ये लोग नूंह में जैसे ही दाखिल हुए वैसे ही गलियों से भारी भीड़ अचानक से सड़क पर आई दोनों की गाड़ियों पर हमला कर दिया। ये लोग कुछ समझ पाते उससे पहले ही इनकी गाड़ियों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी और अवैध हथियारों से हमला कर दिया. इस हमले में दो होमगार्ड की मौत हो गई है, जबकि 15 से अधिक लोग घायल हो गए. हिंसा में होमगार्ड नीरज (थाना खेड़की दौला) और होमगार्ड गुरसेवक (थाना खेड़की दौला) शहीद हुए हैं. जबकि एक डीएसपी और एक इंस्पेक्टर भी घायल हुए. गुरुग्राम में क्राइम ब्रांच में तैनात इंस्पेक्टर के पेट में गोली लगी जबकि डीएसपी के सर पर चोट लगी है और इन सब पुलिसकर्मियों का इलाज मेदांता अस्पताल में हो रहा है. विश्व हिन्दू परिषद के जुलूस को रोकने के लिए भीड़ ने जब पथराव किया, तब जमकर बवाल हुआ और गाड़ियों में आग लगा दी गई. दुकानों-घरों को भी जलाने की कोशिश की गई. नूंह में जब हिंसा भड़की तो आसपास के इलाकों और केंद्र की ओर से अतिरिक्त सुरक्षाबल भेजे गए. सोमवार को हरियाणा सरकार ने केंद्र से मदद मांगी तो देर रात तक अतिरिक्त फोर्स भेज दी गई.

    हिंसा का असर आस-पास के जिलों में भी
    मेवात की इस घटना का असर आसपास के जिलों में भी देखने को मिला. नूंह की इस घटना के बाद सोहना इलाके में भी उन्मादी भीड़ ने गाड़ियों पर पथराव किया. इतना ही नहीं जो सुरक्षाबल नूंह में अतिरिक्त सुरक्षा देने के लिए जा रहे थे, उनकी गाड़ियों को भी निशाने पर ले लिया. सोमवार देर रात तक हरियाणा सरकार ने मेवात, गुरुग्राम, फरीदाबाद और रेवाड़ी में धारा 144 लगा दी और नूंह में मोबाइल इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी ताकि लोग अफवाह ना फैलाए. सभी जिलों के प्रशासन ने लोगों से शांति बनाए रखने और किसी तरह की अफवाह पर विश्वास ना करने की अपील की.

    इंटरनेट-स्कूल बंद, धारा 144 भी लागू
    मेवात की इस हिंसा के बाद अब सरकार की ओर से हालात को काबू करने की कोशिश की जा रही है. लगातार अपील की जा रही है कि किसी तरह की अफवाह ना फैलाए…एहतियात के तौर पर नूंह और फरीदाबाद में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बुधवार तक के लिए रोक दी गई हैं. इनके अलावा फरीदाबाद, गुरुग्राम और पलवल में एक अगस्त यानी आज सभी सरकारी-प्राइवेट स्कूल भी बंद कर दिए गए है.

    देश दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए,

    हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

    Unique 24 CG – YouTube

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Verified by MonsterInsights