Home Featured एक आइडिया से बच रहे हैं सालाना 1080 पेड़

एक आइडिया से बच रहे हैं सालाना 1080 पेड़

जानिए क्या है वह अनूठा प्रयोग? जिससे गीता प्रेस बचा रहा है सालाना 1080 पेड़ों की जान

by News Desk

गोरखपुर ( उत्तरप्रदेश ) :- यह हर कोई जानता है की पेड़ों से कागज तैयार किया जाता है, एकसर्वे की मानें तो यूकेलिप्टस के एक पेड़ से करीब 400 किलोग्राम कागज बनता है। अब आप सोच सकते हैं इस प्रकार से हर कागज कारखाने में कितनी खपत होती होगी | गोरखपुर का गीता प्रेस अपने अनूठे प्रयोगों के लिए जानी जाती रही है। हालांकि, उनके प्रयोग साहित्यिक रहे हैं।

कुछ ऐसे ही आइडिया पर गीता प्रेस गोरखपुर ने काम किया। आइडिया सफल रहा और आज इससे हर रोज 3 पेड़ों की जान बचाई जा रही है। महीना का हिसाब लगाइए तो 90 और सालाना 1080। ये बचे हुए पेड़ आपके लिए ऑक्सीजन का निर्माण कर रहे हैं, जो जीवन के लिए सबसे आवश्यक तत्व है। सदाचार को जीवन में आत्मसात करने का ज्ञान आपको गीता प्रेस की हरेक पुस्तक में मिल जाएगा। अब गीता प्रेस ने ज्ञान और नीति के उपदेशों को आत्मसात भी किया। प्रकृति को माता का दर्जा देने वाली गीता प्रेस की किताबों के ज्ञान अब इस प्रकाशन संस्थान में भी लागू किए गए हैं।

यह भी पढ़े …..👉 जानिए कंहा है भारत का सबसे खतरनाक किला – Unique 24 News (unique24cg.com)

यह अनूठा प्रयोग किया गया है करतन मैनेजमेंट के जरिए। किताबों की कटाई-छंटाई से निकलने वाली कतरन के प्रोसेसिंग की ऐसी शानदार व्यवस्था की गई है, जो बड़े प्रकाश संस्थानों के लिए सीख हैं। कतरन से बनी रद्दी के बेहतरीन प्रासेसिंग से दोबारा छपाई योग्य बनाए जाने वाले कागज की तकनीक ने गीता प्रेस के घाटे को कम करने में मदद की है। वहीं, इस प्रयोग से हर रोज तीन पेड़ों का जीवन भी बचाया जा रहा है।

गीता प्रेस गोरखपुर में हर रोज करीब 15 हजार पुस्तकों की छंटाई की जाती है। इस कटाई-छंटाई से एक निकलने वाली कतरन का एक टुकड़ा भी नीचे जमीन पर नहीं गिरने दिया जाता है। इसके लिए प्रकाशन संस्थान की ओर से विशेष प्रणाली विकसित की गई है। इस प्रणाली के तहत कटिंग-बाइंडिंग सेक्शन से लेकर गोदाम तक सक्शन पाइप बिछाया गया है। यह पुस्तकों से निकलने वाले हरेक रेशेनुमा कतरन को भी खींच लेता है। सभी कतरन को गोदाम तक पहुंचा दिया जाता है।

हमें Facebook पर फ़ॉलो करें…..👉 Unique 24 CG | Facebook

गोदाम में हाइड्रोलिक बेलिंग मशीन लगाई गई है। यह कतरन को हाई प्रेसर में सॉलिड बंडल में बदल देती है। गीता प्रेस से हर रोज करीब 1500 किलोग्राम कतरन निकलती है। सालाना देखें तो करीब 500 टन कतरन का मामला बनता है। गोदाम में 120-120 किलोग्राम करतन के बंडल तैयार किए जाते हैं। उन्हें रिसाइक्लिंग के लिए पेपर मिल में भेज दिया जाता है। पेपर मिल में कतरन को बारीकी से काटा जाता है। इसके बाद केमिकल युक्त पानी में इसे भिंगोकर लुगदी बनाई जाती है। पेपर मिलों के अधिकारियों का कहना है कि तीन से चार चरण की प्रक्रिया के बाद लुगदी मशीन पर सूखकर शीट बन जाती है। इसके बाद यह दोबारा छपाई के लिए तैयार हो जाती है।

हमें Twitter पर फ़ॉलो करें…..👉 (1) Unique 24 CG (@Unique24CG1) / Twitter

पेड़ों से कागज तैयार किया जाता है, यह हर कोई जानता है। पेपर मिल के अधिकारियों एकसर्वे की मानें तो यूकेलिप्टस के एक पेड़ से करीब 400 किलोग्राम कागज बनता है। गीता प्रेस हर रोज 1500 किलोग्राम कतरन की प्रोसेसिंग कराकर करीब 1200 किलोग्राम कागज तैयार कराता है। इस प्रकार तीन पेड़ को बचाने में सफल हो रहा है। गीता प्रेस ने अपनी इस मैनेजमेंट पॉलिसी से दूसरों के लिए मिसाल खड़ी कर दी है।

देश दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए,

हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें 👇

Unique 24 CG – YouTube

You may also like

Leave a Comment