Home कोरोना बेहद खतरनाक है कोरोना की चौथी लहर…

बेहद खतरनाक है कोरोना की चौथी लहर…

by Wev Desk
बेहद खतरनाक है कोरोना की चौथी लहर…

today news in hindi: कोरोना ने पूरी दुनिया को अपने कब्जे में जकड़ कर रखा है. एक के बाद एक नए-नए वेरिएंट सामने आ रहे है. इस बार कोरोना का नया वेव 10 गुना तेजी से फैल रहा है. ब्रिटेन जैसे देश में कोरोना का नया वेरिएंट XE नया खौफ पैदा कर चुका है.

ब्रिटेन में कोरोना के नए वेरिएंट XE से हड़कंप मच गया है, ब्रिटेन की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी के रिपोर्ट के मुताबिक ये ओमिक्रोन सब वेरिएंट का हाइब्रिड स्ट्रेन है और इस पर अध्ययन किया जा रहा है. यह बीए.1 और बीए.2 ओमिक्रोन सब वेरिएंट के म्यूटेशन से बना है. शुरुआती स्टडी से संकेत मिला है कि XE वेरिएंट के संक्रमण की रफ्तार BA.2 वेरिएंट की तुलना में करीब 10 फीसदी अधिक है.

इन देशों में बढ़ रहे है संक्रमण के मामलें

पिछले कुछ दिनों से चीन और दक्षिण कोरिया में कोरोना संक्रमण के नए मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं ऐसे में नए वेरिएंट ने लोगो में नया खौफ पैदा हो गया है, इधर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी चिंता जाहिर की है, हालांकि कुछ भी स्पष्ट कहने से पहले वैज्ञानिकों की टीम वायरस के इस नए रूप पर विस्तार से अध्ययन करने में जुटी है. वर्तमान में ओमीक्रोन वायरस का कहर चीन, हांगकांग और दक्षिण कोरिया में सबसे ज्यादा बरपा हुआ है. चीन के कई बड़े शहरों में पाबंदिया लगा दी गई हैं और लाखों लोग घरों में कैद हैं.

भारत में रोजाना 1000 एक्टिव केस

भारत देश की बात करे तो यहां रोजाना हजार के करीब कोरोना के एक्टिव केस देखे जा रहे है. पहले भी अचानक आए वेरिएंट ने दूसरी और तीसरी लहर पैदा की थी इस बार XE वेरिएंट ओमिक्रोन से करीब 10 फीसदी ज्यादा संक्रामक है और कहीं अधिक से फैल रहा है फिलहाल यहां नए वेरिएंट का कोई केस नही मिला है. हाल ही के दिनों में कोरोना के मामले औसत रूप से कम जरूर दिखाई दे रहे है लेकिन इस बीच एक नए वेरिएंट ने चौथी लहर के बारे में सोचने को मजबूर कर दिया है.

जानिए कोरोना वायरस के 3 नए हाइब्रिड वेरिएंट

यूनाइटेड किंगडम हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी (UKHSA) की एक रिपोर्ट के मुताबिक तीन नए हाइब्रिड COVID-19 वेरिएंट हाल फिलहाल में नजर आए हैं। ये हैं XE, XD और XF। XD फ्रेंच डेल्टा x BA.1 वंश से आते हे। शुरुआती स्टडी के मुताबिक XE वेरिएंट BA.2 की तुलना में करीब 10 फीसदी ज्यादा संक्रामक है. हालांकि, इस वेरिएंट को लेकर अभी और स्टडी की जरुरत बताई जा रही है.

You may also like

Leave a Comment