रायपुर नगर निगम में MIC सदस्य अजीत कुकरेजा को हटाने का आदेश

रायपुर :- छत्तीसगढ़ के रायपुर नगर निगम के एमआईसी (MIC) सदस्य पार्षद अजीत कुकरेजा को हटा दिया गया है। इसके पहले की निगम का बजट पेश हो, उसके पहले ही कुकरेजा को बाहर कर दिया गया है। रायपुर नगर निगम की ओर से जारी आदेश के अनुसार, इस नगर निगम के एमआईसी सदस्य की सदस्यता हटाई गई है।

पार्षद अजीत कुकरेजा ने रायपुर नगर निगम के एमआईसी सदस्य के रूप में लंबे समय से सेवा की है। उन्होंने निगम के विकास और सुधार के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाओं में भाग लिया है। उनकी योजनाओं में से कुछ शानदार परिणाम दिखाए गए हैं और उन्होंने नगर निगम के विकास में अपना योगदान दिया है।

यह भी पढ़ें…Bjp में शामिल हुए दिग्गज कांग्रेसी,100 से अधिक ने ली सदस्यता (unique24cg.com)

पार्षद अजीत कुकरेजा की हटाये जाने का आदेश आया है, जो की महापौर के लेटर के बाद जारी किया गया है | लेकिन इसके पीछे का कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हुआ है। कुछ सूत्रों के मुताबिक, यह फैसला नगर निगम के उच्चाधिकारियों द्वारा लिया गया है। इसके अलावा, अभी तक कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है।

यह फैसला नगर निगम की ओर से आया है, और इसका पालन किया जाएगा। अब पार्षद अजीत कुकरेजा नगर निगम के एमआईसी सदस्य के रूप में कार्य नहीं करेंगे। इससे पहले भी ऐसे मामले में कुछ पार्षदों को हटाया गया है। लेकिन इससे नगर निगम के कामकाज पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि बजट पेश होने के बाद नगर निगम के विभागों को अपने कामों को पूरा करने के लिए सामर्थ्य होगी।

इस नगर निगम के एमआईसी सदस्य को हटाये जाने की खबर सभी के लिए एक चौंकाने वाली बात है। यह फैसला राजनीतिक मायने रखता है, क्योंकि पार्षदों को नगर निगम के विभिन्न योजनाओं में भाग लेने का मौका मिलता है और वे अपना चयनकर्ता वर्ग की ओर से चयनित होते हैं। इसलिए, इस फैसले ने नगर निगम की राजनीतिक दिशा पर प्रभाव डाल सकता है।

पार्षद अजीत कुकरेजा की हटाये जाने के बाद, अब नगर निगम के बजट पेश होगा। इस बजट में नगर निगम के विभागों के लिए वित्तीय आवंटन किया जाएगा। यह बजट नगर निगम की विकास योजनाओं को संचालित करने के लिए महत्वपूर्ण होता है। इसके अलावा, नगर निगम के बजट में सामाजिक कार्यक्रमों, स्वच्छता अभियानों, पार्कों के विकास, और सड़क निर्माण आदि के लिए भी वित्तीय आवंटन किया जाता है।

यह फैसला नगर निगम की ओर से लिया गया है और इसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। आपको बता दें की पार्षद अजीत कुकरेजा ने बीते विधानसभा चुनाव में बागी होकर कांग्रेस के प्रत्याशी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ा था | इस निष्कासन को इस बात से जोड़कर देखा जा रहा है पर इसकी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है |

इस फैसले के बाद, नगर निगम के बजट पेश होने से पहले पार्षद अजीत कुकरेजा को हटा दिया गया है। इससे नगर निगम की राजनीतिक दिशा पर भी प्रभाव पड़ेगा। इस फैसले का पालन किया जाएगा और नगर निगम के कामकाज को बाधित नहीं होने दिया जाएगा। इस फैसले के बाद, रायपुर नगर निगम का बजट पेश किया जाएगा और नगर निगम के विभागों को वित्तीय सहायता मिलेगी। इसके बाद, नगर निगम के विभागों को अपने कामों को पूरा करने के लिए सामर्थ्य होगी।

देश दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए,

हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें….

Unique 24 Bharat – YouTube